परदेसी बाबु की रास नहीं आया “कनपुरिया हुस्न “


20 हजार पर्यटक आए, बिना कुछ देखे लौट गए
पर्यटन के नाम पर जिला योजना में सूबे को मिले सिर्फ पांच करोड़
चार वर्षो से स्वीकृत बजट न मिलने से अबकी शहर का ‘पत्ता कटा’

Advertisements