कभी विदेशों तक बजता था शहर की मिलों का डंका

खंडहर बता रहे ईमारत की बुलंदी  !

कभी विदेशों तक बजता था शहर की मिलों का डंका

Advertisements