कानपुर में एक ऐसा शख्स है, जिसके पास 786 नंबर का अनोखा कलेक्शन है।


कानपुर.यूपी के कानपुर में एक ऐसा शख्स है, जिसे 786 नंबर का ऐसा शौक चढ़ा कि उसने 1 रुपए से लेकर 1000 के नोटों के 82 हजार रुपए का कलेक्शन बनाया है। इसके साथ ही उसके बैंक अकाउंट से लेकर उसके पासपोर्ट में भी 786 का नंबर है।  जानिए क्यों है ऐसा अनोखा शौक…
 kk1_1482844912
– कानपुर के चमनगंज इलाके में सारिक अल्वी(45) मां रुकया खातून, पत्नी सूफिया और अपनी तीन बेटियों के साथ रहते हैं।
– इनके पिता मुख्तार अहमद की 1989 में मौत हो चुकी है। परिवार का सारा खर्चा यही उठाते हैं। सारिक का ट्रेवल एजेंसी का काम है, ये पासपोर्ट और टिकट बनवाते हैं। इनकी तीन बेटियां नायला(14), सानिया(12), अनअनता मुख्तार(9) हैं।
– साल 1998 में इनकी शादी सूफिया से हुई थी। उसी दिन से इनको 786 नंबर का कलेक्शन करने का शौक चढ़ गया।
kan21_1482845577तो ऐसे चढ़ा 786 नंबर का शौक
– सारिक ने बताया कि उनकी शादी में पहुंचे बीएसएनएल के एक अधिकारी ने उनकी पत्नी को मुह दिखाई में एक नया फोन कनेक्शन दिया था। इसमें भी लास्ट में 786 ही आता है।
– उसी के बाद से इन्होने 786 नंबर को लकी मानना शुरू कर दिया। इसी नंबर के नोटों का भी कलेक्शन करने लगे।
– इनके मुताबिक, यह 10 बार उमरा भी कर चुके हैं और हर बार उनके टिकट में 786 नंबर ही निकला है। यही इनके 2009 में बने पासपोर्ट के नंबर में भी मिला है।
– साथ ही इन्होने ऑफिस के वर्कर्स से भी बोल रखा है कि जितना भी कैश आए उसमें भी चेक किया जाए।
kk22_1482844993अब तक कलेक्शन में 82 हजार रुपए  
– सारिक ने ऐसे ही 786 के हजारों रुपए का कलेक्शन किया है। अब इनके पास 82 हजार रुपए नोट इकठ्ठा हो गए हैं।
– इसके साथ ही उनकी बैंक की पास बुक, सेल्स टैक्स के बिल, चेक बुक और मोबाइल नंबर के साथ ही बिल को भी संजोकर रखे हुए हैं, जिसमें भी 786 है।
– इनके कलेक्शन में 1 रुपए से लेकर 1000 हजार तक के नोट शामिल हैं, जिनपर भी 786 नंबर दिया हुआ है।
– इन्होने बताया, अगर 31 तारीख तक कोई पीएम मोदी का ऐसा फरमान आएगा कि ये नोट रखना हो तो रख लो, लेकिन इसे कालेधन माना जाएगा तो हम बैंक में नहीं जमा करेंगे।
– लेकिन इसे कालेधन में तब्दील कर दिया गया है तो आदेश का पालन करते हुए जमा करुगा।
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s