चिड़ियाघर में धूल से टूट रहीं पशु-पक्षियों की सांसें


zooकानपुर प्राणि उद्यान के आसपास हो रहा भवन निर्माण जानवरों के लिए किसी आफत से कम नहीं है। निर्माण स्थल पर उड़ रही धूल पशु-पक्षियों के लिए काल बन रही है। हाल ही में धूल से एक खरगोश, दो चिड़िया और दो मुर्गो की सांसें थम गईं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दोनों के लंग्स (फेफड़े) में धूल के कण पाए जाने की पुष्टि हुई है। भवन निर्माण से उठ रहा धूल का गुबार पक्षियों की सेहत खराब कर रहा है। शेर, भालू, गैंडा समेत अन्य जानवरों में जहां सांस की बीमारी हो गई है वहीं पक्षियों के श्वसन तंत्र शिथिल हो गए हैं। पशु, पक्षियों की मौत चिड़ियाघर प्रशासन सकते में है। चिड़ियाघर के आसपास बहुमंजिला इमारतें बनाईं जा रही हैं। यह निर्माण चिड़ियाघर के अस्पताल से महज पचास मीटर की दूरी है। भवन निर्माण में शोर-शराबा, रात जगमाती लाइटों ने जहां शांतिप्रिय जानवर परेशान तो थे ही लेकिन अब मौत का सिलसिला शुरू हो गया है। एक सप्ताह में छोटे-बड़े पांच पशु, पक्षियों की मौत हो चुकी है। सूत्रों के मुताबिक, सांस की बीमारी होने से अस्पताल परिसर में बने पक्षियों के बाड़े मिट्टी बदलाई गई। चूने और आवश्यक दवाओं का छिड़काव किया गया लेकिन सब बेअसर रहा। खरगोश और मुर्गो की मौत के बाद पोस्टमार्टम रिपोर्ट में धूल के कण निकलने के अन्य जानवर भी इसके घेरे में आ गए हैं। प्रशासन चाहकर भी कुछ नहीं कर पा रहा है। चिड़ियाघर की शान अभय (शेर) भी सांस की बीमारी से जूझ रहा है।

d121953086

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s