एक ऐसे थानेदार, जो गरीब-असहायों के साथ करते हैं इन बेजुबानों की भी सेवा

कानपुर देहात. अपराध जगत में जब किसी अपराधी को उसके बुरे रास्ते से विरत कर अच्छे रास्ते पर चलने के लिये एक पुलिसकर्मी अपने नेक मापदंड का उपयोग करते हैं, तो लोग कहते हैं कि पुलिसकर्मियों में मानवता कहीं गुम सी हो गयी है। लेकिन हम आपको एक ऐसे पुलिस अफसर से मिलाते हैं, जो…

ये है सरकारी अस्पतालों की हकीकत, मरीजों की जान से यहां हो रहा खिलवाड़

कानपुर देहात. जहां योगी सरकार एक तरफ जच्चा बच्चा के स्वास्थ्य के प्रति हर सुविधा उपलब्ध करवा रही है, वही स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार एवं अस्पतालों में तैनात कर्मचारी मुख्यमंत्री के आदेशों की धज्जियां उड़ा रहे है। ये हालात रसूलाबाद के 30 शैय्या मातृ एवम् शिशु चिकित्सालय का है, जहां तीन दिनों तक तीन प्रसूता…

कानपुर जिले के परेड स्थित सोमदत्त प्लाजा में स्वतंत्रता दिवस के दिन बम की सूचना से हड़कंप

कानपुर जिले के परेड स्थित सोमदत्त प्लाजा में स्वतंत्रता दिवस के दिन बम की सूचना से हड़कंप मच गया। कानपुर. कानपुर जिले के परेड स्थित सोमदत्त प्लाजा में स्वतंत्रता दिवस के दिन बम की सूचना से हड़कंप मच गया। सूचना पर तुरंत पुलिस पहुंची और आसपास की जगह खाली कराई और लोगों को दूर जाने…

Untold story of Sabalpur Kanpur dehat

Untold story of Sabalpur Kanpur dehat कानपुर देहात। अंग्रेजों का काला साम्राज्य था, चारों तरफ हाहाकार मचा हुआ था। लोग दहशतगर्दी के साये में पनप रहे थे लेकिन देश के कुछ वीर सपूतों मे जब आज़ादी की चिंगारी भड़की तो मानो देशवासियों के जेहन में आज़ादी की सुनाई सी आ गयी और 1857 की जंग…

मुख्यमंत्री जी! अफसरों ने झोंकी धूल- मुहल्लों में दूसरे दिन की बारिश से जलभराव

कानपुर:शहर में यूं तो कई मुहल्लों में दूसरे दिन की बारिश से जलभराव हो गया है मगर इनमें पनकी रोड पर स्थित अहिल्या बाई होल्कर आवासीय योजना की स्थिति नारकीय हो गई है। यहां रहने वाले लोग नगर निगम और केडीए के बीच पिस गए हैं। मानसून के पहले दिन की बारिश में भी यहां…

120 साल पुराना है ‘टर्र’ का मेला

ईद के दूसरे दिन मंगलवार को भी लोग एक दूसरे के घर गए और ईद की मुबारकबाद दी। चमनगंज में ‘टर्र’ का मेला लगा जहां बच्चों और बड़ों ने खूब एन्ज्वॉय किया। मिट्टी के खिलौने हमेशा की तरह आकर्षण का केंद्र रहे। बच्चों ने खूब झूला झूला। इस मौके की खास डिश ‘लुचई’ भी खूब…

ईदागाह की हिफाजद करती आ रही तीसरी पीढ़ी, गंगा-जमुनी की मिसाल बनी दौलतदेवी

एक मिशाल कानपुर में देखने को मिली जहां एक हिन्दू परिवार की तीसरी पीढ़ी एतिहासिक बड़ी ईदगाह की रखवाली के साथ ही साफ सफाई करती आ रही है

थोड़ा और इंतजार, फिर ढाई घंटे में कानपुर से दिल्ली

रेल ट्रैक को पांच फीट ऊंची दीवार की बाड़ से दोनों तरफ से घेरा जाएगा, जबकि सिग्नल प्रणाली , सुरक्षा इंतजाम भी दुरुस्त किए जाएंगे। दोनों ट्रैक पर समस्त रेल फाटकों को खत्म करने के साथ ही ट्रेन सुरक्षा चेतावनी प्रणाली को उच्चीकृत किया जाएगा। कानपुर से दिल्ली पहुंचने में सिर्फ ढाई घंटे का वक्त लगेगा।

सेक्स रैकट का हुआ भंडाफोड़, पकड़े जाने पर कहा हम हैं भाई-बहन

कानपुर. डीआईजी सोनिया सिंह के आदेश पर हरबंशमोहाल पुलिस ने मंगलवार को सूतरखाना स्थित एक होटल में रेड मारकर चार लड़कों और चार युवतियों को अरेस्ट किया है। पुलिस की कार्रवाई से होटल में हड़कंप मच गया और मौके से कुछ लोग भागने में कामयाब रहे। पुलिस इन आठ लोगों को लेकर थाने आई और…

कानपुर के लिए गौरव का क्षण : कानपुर के रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति प्रत्याशी

एनडीए की ओर से बिहार के राज्यपाल रामनाथ को¨वद को राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी घोषित करते ही कानपुर में खुशी की लहर दौड़ गई। भाजपाइयों के साथ-साथ उनसे खास जुड़ाव रखने वाले लोग जश्न मनाने में जुट गए। दोपहर ढाई बजे के बाद पार्टी दफ्तर नवीन मार्केट में पार्टीजनों का जमावड़ा शुरू होने लगा था।…

शहर को ग्रीन सिटी बनाने का एक और ‘प्रयास’

KANPUR :  ‘ट्री- ब्रेक’ अभियान को शहर के नगर आयुक्त अविनाश सिंह का भी साथ मिला। उन्होंने कैंपस में बने वाई- फाई पार्क में पौधा रोपकर लोगों को स्वच्छता का संदेश भी दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि शहर में बढ़ते कंक्रीट के जंगलों की वजह से हरियाली को काफी नुकसान हुआ है। नगर निगम…

विदेशों में कार दौड़ा रहे साढ़े सात हजार कनपुरिए

जाम ही कानपुर की पहचान नहीं है बल्कि विदेशों में भी कनपुरिए अपनी धमक कायम किए हुए हैं। एक साल में (1 मई-2016 से 31 मई-2017 तक) 7412 कनपुरियों ने विदेशों में लग्जरी वाहन चलाने के लिए आरटीओ से परमिट लिया है। विदेशों में एक साल के मिलने वाले परमिट में 87 फीसदी चौपहिया वाहन वाले हैं, जबकि बाकी दोपहिया वाहन के हैं। विदेश में वाहन चलाने का परमिट कम से कम और अधिक से अधिक साल भर के लिए दिया जाता है। इसके लिए आवेदक को एक हजार रुपए फीस भी चुकानी पड़ती है।

कानपुर के विकास को पंख लगाएगी रिंग रोड

कानपुर  शहर में 105 किलोमीटर की आउटर रिंग रोड बनाने पर मुहर तो लग गई है पर इसका निर्माण आसान नहीं है। सबसे बड़ा काम जमीन का अधिग्रहण है। इसमें 15 हजार किसानों की 600 हेक्टेयर जमीन का अधिग्रहण होना है। केन्द्र सरकार रिंग रोड की लागत में 90 फीसदी धनराशि देने को तैयार है…